Heade ads

प्राचीन भारत का इतिहास

मानव के उदय से लेकर दसवीं सदी तक के भारत का इतिहास, प्राचीन भारत का इतिहास कहलाता है। भारत का इतिहास और संस्कृति गतिशील है और यह मानव सभ्यता की शुरूआत तक जाती है। यह सिंधु घाटी की रहस्यमयी संस्कृति से शुरू होती है और भारत के दक्षिणी इलाकों में किसान समुदाय तक जाती है। भारत के इतिहास में भारत के आस पास स्थित अनेक संस्कृतियों से लोगों का निरंतर समेकन होता रहा है।

 उपलब्ध साक्ष्य सुझाते हैं कि लोहे, तांबे और अन्य धातुओं के उपयोग काफी शुरूआती समय में भी भारतीय उप महाद्वीप में प्रचलित थे, जो दुनिया के इस हिस्से द्वारा की गई प्रगति का संकेत है। चौंथी सहस्राब्दि बी. सी. के अंत तक भारत एक अत्यंत विकसित सभ्यता के क्षेत्र के रूप में उभर चुका था। प्राचीन भारतीय इतिहास को निम्न बिन्दुओं के अंतर्गत पढा जा सकता है-

prachin-bharat-ka-itihas, sindhu ghati, pashan yug, mahajanpad, vaidik sabhyata
प्राचीन भारत का इतिहास

प्राचीन भारतीय इतिहास के स्रोत

पाषाण युग (पुरापाषाण, मध्यपाषाण युग) 

नव पाषाण युग

ताम्र पाषाण युग

सिन्धु घाटी सभ्यता (खोज, उत्पत्ति व लिपि)

सिन्धु घाटी सभ्यता (कला, संस्कृति व पतन)

सिन्धु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल

सिन्धु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल एक सारणी में

वैदिक सभ्यता (ऋग्वैदिक या पूर्व वैदिक काल 1500-1000 ई.पू.)

वैदिक सभ्यता (उत्तर वैदिक काल 1000-600 ई.पू.)

वैदिक साहित्य

जनपद काल

महाजनपद काल

बौद्ध धर्म (महात्मा बुद्ध)

जैन धर्म (महावीर स्वामी)

मगध का उत्थान

विदेशी आक्रमण (सिकन्दर का आक्रमण)

मौर्य साम्राज्य

मौर्य साम्राज्य का अंत

गुप्त साम्राज्य

गुप्त शासन की अवनति

वर्धन काल (हर्षवर्धन)

बादामी के चालुक्य

कांची के पल्लव

चोल वंश

आगे की पोस्टों में विस्तार से वर्णन करेंगें-----

आशा हैं कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको काफी पसंद आई होगी। यदि जानकारी आपको पसन्द आयी हो तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे।

Post a Comment

0 Comments